Tuesday, 27 August 2019

कश्मीर: जानिए महबूबा और उमर समेत अन्य नेताओं की रिहाई को लेकर क्या कहा केंद्र सरकार ने !

जम्मू कश्मीर में महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला सहित अन्य नजरबंद नेताओं की रिहाई में अभी वक्त लग सकता है। इन नेताओं से अलग-अलग सूत्रों के जरिये संपर्क जल्द साधा जा सकता है। शांति का भरोसा और जमीनी हालात को देखकर ही रिहाई पर फैसला होगा।  मंगलवार को केंद्र की टीम विकास कार्यों का जायजा लेने कश्मीर दौरे पर गई।
घाटी में 40 नेताओं व 1000 से ज्यादा पत्थरबाजों को अभी तक हिरासत में लिया गया है। सूत्रों ने कहा, नजरबंद किए गए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों के पास पहुंचने के लिए परिवार के किसी सदस्य द्वारा प्रयास नहीं किया गया। सूत्रों ने कहा, महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती राज्य छोड़कर जा चुकी हैं। 

सूत्रों ने कहा, कई नेता सेंटौर होटल में रुके हैं। कुछ के परिजन उनसे मिलने आए। लेकिन दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के परिवार से कोई मिलने नहीं आया। इन पर प्रशासन नजर रख रहा है। उमर अब्दुल्ला हरि निवास पैलेस में हैं और महबूबा मुफ्ती चश्मे शाही में हैं। विपक्ष के नेता मोहम्मद युसुफ तारीगमी को घर में रखा गया है। राज्य में 1100 से ज्यादा पत्थरबाज गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें से 150 पर निवारक सुरक्षा अधिनियम के तहत मामला दर्ज है। 

सूत्रों का कहना है कि सरकार की प्राथमिकता जम्मू-कश्मीर में अमन और विकास कार्य आगे बढ़ाना है। बंद नेता अगर शांति का भरोसा देकर सहयोग और बातचीत को तैयार होते हैं तो रिहाई पर विचार किया जाएगा। लेकिन अभी केंद्र सरकार इस बारे में राज्य प्रशासन की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है




No comments:

Post a comment